Aahvan the Evocation poem by Dr.Bhupendra Madhepuri

कि खेले खून से होली बहुत विश्राम तो लो
लहू से सिक्त कर धो कर भला कुछ काम तो लो
गिरा दो जातियों के बीच की दीवार को तुम
कि मंजिल तक पहुँचने का नया पैगाम तो लो

कि मुट्ठी बाँध कर आये जरा तुम ख्याल कर लो
पसारे कर विदा होगे इसे भी याद कर लो
अरे धन लूटने की लालसा तो व्यर्थ है सब
निछावर लोकहित कर स्वयं को आबाद कर लो

कि जीवन कर्म से बनता बिगड़ता द्वेष में है
अमन मिटता प्रपंचों में कलह औ’ क्लेश में है
क्रिया को छोड़ चिन्तन में कभी फँसना नहीं तुम
डुबोने मनुज को फिरता दनुज हर वेश में है

विकल है रुग्न सारा देश टूटा जा रहा है
धरा का सुख सुरभि सौंदर्य लूटा जा रहा है
मनुज निष्प्राण जिसके रुधिर में उष्मा नहीं अब
नयन मन में सतत अविरल अंधेरा छा रहा है

तिमिर को बेध उज्जवल सूर्य का आलोक लाओ
कि सदियों से मनुज जो सुप्त है उसको जगाओ
नये इस राष्ट्र के निर्माण में हम सब जुटेंगे
कि पहले हृदय से छल – बल कपट – मत्सर भगाओ

*** डॉ.मधेपुरी की कविता ***